China-US tension: चीन और अमेरिका के संबंध में तनातनी लगातार बढ़ता जा रही है। ताजा खबर यह है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने गुरुवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को ताइवान मुद्दे परक पर आग से नहीं खेलने की चेतावनी दे दी। अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी द्वारा ताइवान की संभावित यात्रा को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है। बाइडेन और जिनपिंग के बीच करीब दो घंटे तक फोन पर बातचीत हुई। चीनी सरकारी मीडिया के अनुसार, जिनपिंग ने बाइडेन से कहा कि अमेरिका को “एक चीन” के सिद्धांत का पालन करना चाहिए। चीन ताइवान की स्वतंत्रता और किसी तीसरे देश के हस्तक्षेप के सख्त खिलाफ है।

वहीं व्हाइट हाउस के एक बयान के अनुसार, बाइडेन ने जिनपिंग से कहा कि ताइवान पर अमेरिका के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है और वह यथास्थिति में एकतरफा बदलाव के खिलाफ है। वह चीन और ताइवान को अलग करने वाले समुद्री हिस्से में शांति और स्थिरता चाहते हैं। व्हाइट हाउस ने कहा कि स्थानीय समयानुसार सुबह 8:33 बजे शुरू हुई वार्ता सुबह 10:55 बजे तक चली। अधिकारियों ने कहा कि वार्ता में यूक्रेन पर रूस के हमले सहित एक व्यापक एजेंडा शामिल है। चीन ने अभी तक रूसी हमले की निंदा नहीं की है।

बीजिंग ने पेलोसी की ताइवान यात्रा के गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। 1997 में रिपब्लिकन नेवेट गिंगरिच के बाद पेलोसी अमेरिका के पहले निर्वाचित पदाधिकारी होंगे। उस समय नवत सदन के अध्यक्ष थे। बाइडेन ने पिछले हफ्ते कहा था कि अमेरिकी सैन्य अधिकारियों का मानना ​​है कि स्पीकर का ताइवान दौरा उचित नहीं है।