संवाददाता महेन्द्र सिंह परमार नागाणी

नागाणी। जिले भर में सादगी से हर्षहुलाष से नर्सेज़ दिवस मनाया गया इसी तरह राजकीय सामुदायिकस्वास्थ्य केंद्र सिलदर पर भी नर्सेज़ दिवस मनाया गया राजस्थान नर्सेज़ यूनियन सिरोही के जिलाध्यक्ष जीवत दान चारण ने बताया कि 12 मई 1820 में नाइटेंगल फ्लोरेंस का जन्म हुआ था। व 13 अगस्त 1910 में म्रत्यु लेकिन, नाइंटेगल फ्लोरेंस के जन्मदिन 12 मई को हर साल, सभी नर्सेज़ नर्सेज़ दिवस के रूप में मनाते है जिलाध्यक्ष चारण ने सर्वप्रथम कोरेना में मौत के आग़ोश में गए सभी नर्सेज़ को श्रद्धांजलि दी व दो मिनट का उनकी याद में मौन रखा नाइटेंगल फ्लोरेंस को भी पुष्पांजलि दी।
ओर कहा कि नर्सिंग को कैरियर के रूप में पहुसान बनाने का कार्य नाइटेंगल फ्लोरेंस ने किया था। उस समय नर्सिंग प्रोफेशन में बहोत कम ही लोग जाते थे व विशेष महिला तो ना के बराबर जाती थी लेकिन उस महान शख्सियत ने नर्सिंग का रूप ही बदल दिया अब सबसे ज्यादा भागीदारी नर्सिंग में महिलाओं की ही है। सरकारों ने भी इस पेशे में जाने के लिए महिलाओं को विशेष रियायतें दे रखी है जो ऐसी रियायतें किसी भी विभाग में नहीं है नर्सिंग में सलेक्शन के लिए महिलाओं को विशेष आरक्षण भी दे रखा है। जिससे उनका अधिक से अधिक सलेक्शन हो सके नर्सिंग एक सेवा का पेशा है इसी मानवीय संवेदना को ध्यान रखते हुए सभी नर्सेज़ अपना कार्य करते रहे सेवा को कार्य से जोड़ कर देखे तभी नर्सेजदात्री नाइंटेगल फ्लोरेंस के अधूरे सपनो को पूरा किया जा सकता है। उस महान आत्मा ने द्वितीयविश्वयुद्ध के समय घायल सिपाहीयो व जनता की खूब सेवा की ओर अपने इस नर्सिंग को ऊंचाइयों तक पहुसाया है आज राजस्थान सरकार ने भी नर्सेज़ को विभिन्न सोगौतो से नवाजा है ,चाहे पदनाम नर्सिंग अधिकारी हो या ओल्ड पेंसन योजना , कोरेना काल मे नर्सेज़ ने सराहनीय कार्य कर जनता का दिल जीत लिया था , वो नर्सेज़ ही थे जो सिधे कोरेना के समय मौत से सामना कर रहे थे। इस मानवीयसंवेदनाओं को बरकरार रख कर , जनता में अपना विश्वास बनाये , मानव सेवा ही धर्म है इसको धरातल पर उतारे कोरेना काल मे सराहनीय कार्य करने पर कई नर्सेज़ को मोमेंटो देकर सम्मानित किया गया। जिले के विभिन्न अस्पताल में भी नर्सेज़ दिवस धूमधाम से मनाया गया है। नर्सेज़ दिवस पर डॉक्टर निहाल सिंह मीणा, डॉ महेश डॉ बद्रीप्रसाद जीवत दान चारण नर्सेज़ अध्यक्ष राजेंद्रयादव कुमार चिराग पांचाल विक्रम जीनगर लोकेश हेमलता मीणा पृथ्वीराज चारण,माया देवी परमेश्वरी विश्नोई शुशीला रानी मीणा नीरजकुमार परिहार जगा राम, सरवन कुमार सुरेश कुमार निरमा पुरोहित रंजन, सारदा आशा सहयोगिनी, आंगनबाड़ी व कई कर्मचारी उपस्थित रहें।