प्रधानमंत्री के समर्थकों ने उनके आधिकारिक आवास के पास एक विरोध स्थल पर एकत्र हुए

कोलंबो। श्रीलंका में आर्थिक संकट और विरोध के बीच प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने इस्तीफा दे दिया है। अपने इस्तीफे से ठीक पहले उन्होंने ट्वीट किया। टिवीट कर लिखा कि जैसा कि श्रीलंका में भावनाएं बढ़ रही हैं, मैं आम जनता से संयम बरतने का आग्रह करता हूं। उन्होंने आगे लिखा याद रखें कि हिंसा से केवल हिंसा ही होगी। हमें एक आर्थिक संकट में एक आर्थिक समाधान की आवश्यकता है, जिसे यह प्रशासन हल करने के लिए प्रतिबद्ध है।

बता दें कि राजपक्षे का यह बयान देश में हिंसा की घटनाओं के बीच आया है, जिसमें करीब 16 लोग घायल हो गए थे। प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के समर्थकों ने उनके आधिकारिक आवास के पास एक विरोध स्थल पर एकत्र हुए। जहां सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमला कर दिया, जिसके बाद पुलिस को राजधानी में कर्फ्यू लगाना पड़ा। महिंदा के छोटे भाई और राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के नेतृत्व वाली सरकार पर देश के सामने सबसे खराब आर्थिक संकट से निपटने के लिए अंतरिम प्रशासन बनाने का दबाव है।

महिंदा राजपक्षे (76) अपनी ही श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना (एसएलपीपी) पार्टी के नेताओं के इस्तीफे के लिए दबाव में थे। वह इस दबाव के खिलाफ समर्थन जुटा रहे थे।