संवाददाता महेन्द्र सिंह परमार नागाणी

नागाणी। केंद्र सरकार में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आज लोकसभा में वित्तवर्ष 2022-2023 का आम बजट पेश किया। वित्तमंत्री ने 90 मिनिट का बजट भाषण के दौरान ऐलान करते हुए कहा कि वर्चुअल डिजिटल एसेट्स ट्रांजेक्शन के मामले में जबरदस्त उछाल आया हैं। जिसे देखते हुए अब किसी भी वर्चुअल डिजिटल एसेट्स ट्रांसफर से होने वाली आय पर 30 प्रतिशत की दर से टैक्स लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि एक्वीजिशन कॉस्ट को छोड़कर किसी अन्य खर्च पर कोई रियायत भी नही दी जाएगी। डिजिटल एसेट्स ट्रांसफर के दौरान किसी भी तरह के नुकसान या किसी अन्य आय के साथ सेटऑफ भी नही किया जा सकेगा। वर्चुअल एसेट्स ट्रांसफर के दौरान भुगतान पर भी 1 प्रतिशत टीडीएस लगेगा। इसकी मोनिटरिंग थ्रेसहोल्ड के अलावा होगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गिफ्ट के तौर पर प्राप्त होने वाले डिजिटल एसेट भी अब टेक्स के दायरे में आएंगे, जिस पर प्राप्तकर्ता को टैक्स अदा करना पड़ेगा।

◆ आयकर स्लैब में नही किया कोई बदलाव

90 मिनिट के बजट भाषण के दौरान वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नही किया हैं। देश के मध्यम वर्ग को टैक्स स्लैब के बदलाव की उम्मीद थी। लेकिन केंद्र सरकार ने इसमें किसी को भी कोई राहत नही दी हैं।

बजट पर सिरोही जिले के जनप्रतिनिधियों की प्रतिक्रिया

केंद्रीय बजट 2022 को लेकर जहां भाजपा के नेता इसे राष्ट्र निर्माण वाला बजट बताकर केंद्रीय वित्तमंत्री की पीठ थपथपा रहे हैं, वहीं कांग्रेस इसे देश को गर्त में ले जाने वाला बजट बता रहे हैं। आप भी पढ़िए क्या कहा सिरोही के नेताओ ने…

बजट में सिरोही के लिए कुछ नही : लोढ़ा

सिरोही के निर्दलीय विधायक और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सलाहकार संयम लोढ़ा ने आम बजट को निराशाजनक बताया हैं। लोढ़ा ने कहा कि पूरे बजट भाषण के दौरान सिरोही जिले को कुछ नही मिला। पिंडवाड़ा से जालोर और पिंडवाड़ा से उदयपुर नई रेल लाइन की मंजूरी की उम्मीद थी लेकिन निराशा ही हाथ लगी। जिले को ना तो केंद्रीय विद्यालय मिला और ना ही सैनिक स्कूल। आबूरोड़ और सिरोही के लिए हवाईअड्डे की स्वीकृति की उम्मीद भी पूरी नही हुई। भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र में 2 करोड़ रोजगार देने का वादा था जिसकी जगह पिछले 3 साल में 12 करोड़ रोजगार घट गए। फ़ूड सब्सिडी, खाद सब्सिडी में कटौती की गई, मनरेगा का बजट 25 हज़ार करोड़ घटा दिया। यह बजट पूरी तरह से जनविरोधी हैं।

● बजट के दिल में गांव और किसान : पुरोहित

भाजपा जिलाध्यक्ष नारायण पुरोहित ने आम बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि बजट गांवो और किसानों को ध्यान में रखकर पेश किया गया हैं। किसानों की आमदनी बढ़ाने पर जोर दिया गया हैं। युवाओं के लिए 76 लाख नौकरियां, गरीबो के लिए 80 लाख नए मकान, 2 लाख आंगनवाड़ी केंद्रों को अपग्रेड करने, किसानों के लिए डिजिटल सेवा, ई-वाहनों को बढ़ावा देना, गांवो को डिजिटल बनाने पर जोर दिया गया हैं। ये सब निर्णय बताते हैं कि इस बजट के दिल में गांव और किसान हैं।

केंद्रीय बजट से निराशा

केंद्रीय बजट 2022 में शिक्षकों एवं कर्मचारियों के लिए कोई विशेष प्रावधान नहीं किया गया है। आयकर की स्लेब नहीं बढाई गयी एवं विभिन्न जमा विनियोग, गृह ऋण के ब्याज,समेत विभिन्न मदो में आयकर छूट के संबंध में राहत देने के लिए प्रावधान नहीं किया गया है । बजट से निराशा हुई है ।

डॉक्टर उदय सिंह डिंगार
प्रदेश अध्यक्ष
राजस्थान समग्र शिक्षक संघ

केंद्रीय वित् मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किए गए आम बजट से देश की विकास की गति बढ़ेगी और आज का आम बजट ग़रीब को गणेश मानकर बनाया गया है कि इससे ग़रीब एवं मध्यम वर्ग को बहुत लाभ मिलने वाला है। इस बजट में किसानों की फ़सल की MSP पर सवा दो लाख करोड़ का बजट दिया गया है जिससे कि किसानों की आय में सुधार होगा। इस बजट से भारत के छोटे एवं मध्यम वर्ग के व्यापारियों के लिए बहुत ही लाभकारी है। भारत के इंफ्रास्ट्रक्चर पर इस बजट में बहुत ध्यान दिया गया है और जिससे भारत में 26000 किलोमीटर हाईवे निर्माण हेतु बजट बनाया है। इस बजट में 80 लाख गरीबों के मकान हेतु बजट पेश किया गया है जो की ऐतिहासिक है।
दीपेंद्र सिंह पिथापूरा
भाजपा युवा नेता