Aparna Yadav in BJP : तमाम अटकलों को विराम देते हुए मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव बुधवार को भाजपा में शामिल हो गईं। दिल्ली स्थित भाजपा कार्यालय में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उन्हें विधिवत सदस्यता दिलाई। सदस्यता ग्रहण करने के बाद अपर्णा ने भाजपा का धन्यवाद दिया। बोलीं- मेरे लिए राष्ट्र हमेशा से प्राथमिकता रहा है। मैं पीएम मोदी के कामों की प्रशंसक रही हूं। Aparna Yadav मंगलवार को ही दिल्ली पहुंच गई थीं और भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं से मुलाकात की। अपने परिवार की छोटी बहू के भाजपा में शामिल होने पर अखिलेश यादव ने पहले तो अपर्णा को बधाई दी। साथ ही यह भी कहा कि नेताजी ने उन्हें समझाने की बहुत कोशिश की। अखिलेश इशारों इशारों में यह भी कह गए कि भाजपा से जो नेता सपा में आए हैं वो जनाधार वाले हैं, लेकिन अपर्णा का कोई जनाधार नहीं है।

अपर्णा यादव का भाजपा में शामिल होना समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के लिए तगड़ा झटका बताया जा रहा है। वहीं अभी यह साफ नहीं है कि Aparna Yadav चुनाव लडे़ंगी या नहीं? चुनाव लड़ेंगी तो किस सीट से? यह भी कहा जा रहा है कि भाजपा अभी Aparna Yadav को टिकट न दे। चुनाव प्रचार में लगाए और सरकार बनने के बाद नई जिम्मेदारी सौंपे या एमएलसी बनाकर विधानसभा में ले आएं।

Aparna Yadav के भाजपा में शामिल होने की अटकलें बीते कुछ दिनों से लग रही हैं। यहां तक कहा जा रहा था कि भाजपा उन्हें लखनऊ कैंट सीट से प्रत्याशी बना सकती हैं। पिछले चुनावों में Aparna Yadav को यहीं से हार का सामना करना पड़ा था। तब वे सपा की सीट से प्रत्याशी बनी थीं और हार के लिए अपने परिवार को जिम्मेदार ठहराया था।

मुलायम के साढ़ू पूर्व विधायक प्रमोद गुप्ता भाजपा में शामिल होंगे

मुलायम सिंह और समाजवादी पार्टी को आज दोहरा झटका लगने जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, वर्ष 2012 में बिधूना से समाजवादी पार्टी से विधायक रहे प्रमोद कुमार गुप्ता एलएस भाजपा में शामिल होंगे। वह सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के साढ़ू हैं। किशोरगंज निवासी प्रमोद गुप्ता ने बताया कि वह भाजपा कार्यालय लखनऊ में बुधवार पूर्वाह्न 11 बजे सदस्यता लेंगे। प्रमोद गुप्ता साधना गुप्ता की बड़ी बहन कल्पना गुप्ता के पति हैं। कुछ दिन पहले सपा संरक्षक के मित्र हरिओम यादव भाजपा में शामिल हुए हैं।

अपर्णा यादव मुलायम सिंह के छोटे बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं। प्रतीक की मां साधना गुप्ता मुलायम की दूसरी पत्नी हैं। अपर्णा यादव ने 2017 के विधानसभा चुनाव में सपा के टिकट पर लखनऊ कैंट सीट से बीजेपी प्रत्याशी डॉ. रीता बहुगुणा जोशी (अब सांसद) के खिलाफ चुनाव लड़ा था। अपर्णा को हार का सामना करना पड़ा।

सबसे बड़ा सवाल, कहां से चुनाव लड़ेंगी अपर्णा यादव

जब भी अपर्णा के भाजपा में शामिल होने की बात हुई तो कहा गया कि पार्टी उन्हें लखनऊ कैंट से टिकट दे सकती हैं। हालांकि भाजपा संगठन के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि अपर्णा को कैंट से नहीं बल्कि आसपास के जिले की किसी भी सीट से चुनाव लड़ा जा सकता है। लखनऊ कैंट सीट पर सांसद रीता के बेटे मयंक जोशी का मजबूत दावा है। वहीं, बीजेपी मुलायम के बहनोई प्रमोद को बिधूना से प्रत्याशी बना सकती है, क्योंकि हाल ही में इस सीट से मौजूदा विधायक विनय शाक्य बीजेपी छोड़कर पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य, दारा सिंह समेत अन्य विधायकों के साथ सपा में शामिल हो गए थे।

अपर्णा पहली नहीं, जो यादव परिवार छोड़कर भाजपा में हुईं शामिल

अपर्णा यादव, मुलायम सिंह परिवार की पहली सदस्य नहीं हैं जो सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हुई हों। इससे पहले मुलायम सिंह यादव के भाई अभयराम यादव की बेटी और धर्मेंद्र यादव की सगी बहन संध्या यादव ऐसा कर चुकी हैं। संध्या यादव ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत समाजवादी पार्टी से की थी लेकिन पंचायत चुनाव के दौरान वे सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हो गईं। संध्या यादव और उनके पति अनुजेश प्रताप यादव दोनों ही भाजपा में शामिल हुए थे।