देश के 8 राज्यों की 19 सीटों पर आज राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान हो रहा है। कोरोना पॉजिटिव विधायक पीपीई किट पहनकर पहुंचे मतदान करने, तीन सीटों के लिए वोटिंग हुई पूरी….

कोरोना महामारी के दौरान जब विश्वभर में लॉक डाउन और कहीं कहीं आंशिक अनलॉक पाया गया वहीं पर भारत इन राज्यसभा चुनाव में बड़ी ही दिलचस्प वोटिंग दृश्य सामने आए। हुए यूं कि आज सुबह ठीक 9 बजे मतदान शुरू होते ही पहला वोट मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने डाला। इसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ मतदान करने पहुंचे। मतदान में विधानसभा के 206 सदस्‍य हिस्सा लिया। इनमें भाजपा के 107, कांग्रेस के 92, बसपा के दो, सपा का एक और चार निर्दलीय सदस्य शामिल हैं।

 मध्य प्रदेश में आज तीन राज्यसभा सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं। यहां कुल चार उम्मीदवार मैदान में हैं, बीजेपी और कांग्रेस ने दो-दो उम्मीदवारों को उतारा है। मध्य प्रदेश में भाजपा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया तो वहीं कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह को मैदान में उतारा है। सुबह से ही कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के विधायक राज्यसभा चुनाव के लिए वोट डाल रहे हैं। लेकिन दोपहर करीब एक बजे कांग्रेस के कालापीपल विधानसभा क्षेत्र के विधायक कुणाल चौधरी जो कि कुछ ही दिन पहले कोरोना वायरस टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए थे, वे पीपीई किट पहन कर मतदान करने विधानसभा भवन पहुंचे। उनका वोट अलग से लिफाफे में रखा गया है। गौरतलब है कि मतदान करने वाले 206 विधायकों में से कालापीपल विधायक कुणाल चौधरी कुछ दिनों पहले कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।

बता दें राज्यसभा चुनाव होने से पहले कोरोना के चलते विधानसभा में विशेष इंतजाम किए गया था। शारीरिक दूरी का पालन कराने के लिए सेंट्रल हॉल में मतदानस्थल बनाये थे। मतदान के दौरान कोविड-19 बीमारी के संक्रमण से निर्वाचकों एवं निर्वाचन प्रक्रिया से संबद्ध अमले के बचाव के मद्देनजर समुचित ऐहतियात एवं व्‍यवस्‍थाएं सुनिश्चित की गई थीं। आपको बता दें कि कोई भी व्यक्ति जो कोरोना संक्रमित है या उसमें कोरोना के लक्षण है, उसे सेफ रहना है और खुद को आइसोलेट करके रखना है। लेकिन मतदान की वजह से विधायक सभी सावधानियां बरतते हुए यहां पहुंचे। कालापीपल विधायक कुणाल चौधरी जब वोट डालकर वापस लौटे तो पूरे क्षेत्र को सैनिटाइज किया गया। वोटिंग डालने वाले इलाके और पूरे मेन गेट को सैनिटाइज किया गया, ताकि किसी और को खतरा ना हो।

कोरोना वायरस के इस काल में भी राजनीति अपने चरम पर दिखी और पार्टियों ने विधायकों को सेफ्टी के लिए रिजॉर्ट में रखा। मध्य प्रदेश के अलावा इस बार गुजरात और राजस्थान में कड़ी टक्कर है, जहां पार्टियों ने कुल सीट से अधिक उम्मीदवार उतारे हैं। गुजरात की चार सीटों पर पांच उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं जबकि राजस्थान में भी राज्यसभा की तीन सीटें हैं और 4 उम्मीदवार ताल ठोक रहे हैं।

 मतगणना शाम पांच बजे से शुरू होगी और 6 बजे तक परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। ♍♉🅱