1 0
Read Time:3 Minute, 59 Second

 

आधुनिक युग में शिक्षा में भारतीय संस्कारों का समावेश आवश्यक : परमार 

 

बाली

 

बाली के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में मुख्य अतिथि समाज सेवी नरेंद्र परमार एवं मानक चंद रायका की अध्यक्षता तथा प्राचार्य श्रवण सिंह राजपुरोहित के सानिध्य में वार्षिकोत्सव बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। इस दौरान सरस्वती पूजन के साथ विद्यालय की छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। प्राचार्य श्रवण सिंह राजपुरोहित द्वारा अतिथियों का स्वागत कर विद्यालय की वार्षिक प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की गई।

 

मुख्य अतिथि समाज सेवी नरेंद्र परमार ने शिक्षा में संस्कार युक्त शिक्षा देने पर बल दिया। उन्होंने बताया कि इस आधुनिक युग में शिक्षा में भारतीय संस्कारों का समावेश होना आवश्यक है। साथ ही विद्यालय विकास में सामूहिक योगदान पर जोर देते हुए शिक्षा के विकास में समर्पण देने का आह्वान किया।

 

शिक्षाविद सुलेमान टॉक ने विद्यार्थियों को परीक्षा में सफलता के सूत्र बताते हुए जीवन में लक्ष्य को प्राप्त करने का मन्त्र बताया।एसीबीईओ रायका ने विभागीय सम्बलन देते हुए सभी भामाशाहो का उत्साह वर्धन किया।

 

कार्यक्रम में जिला टॉपर एवं राज्यस्तरीय मेरिट होल्डर मुकुंद अग्रवाल सहित कक्षा 12 एवं 10 में बोर्ड परीक्षा परिणाम मे उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों सहित विभिन्न सह शैक्षिक गतिविधियों में अव्वल रहने वाले विद्यार्थियों को सम्मानीय किया गया।

 

कार्यक्रम में जगदीश परिहार, विक्रम सिंह सोलंकी, अजयपाल सिंह जोधा, प्रवीण सोलंकी, किशोर प्रजापति, जगदीश वर्मा, एडवोकेट जीतेन्द्र भंडारी, प्रधानाचार्य मदन सुथार, जगदीश सोनी, ओम पूरी विशिष्ट अतिथि ने कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम में विनोद परिहार, संगीता वैष्णव, संगीता महावर, नरपत सिंह, लक्ष्मण परमार, जाविद खान, रेशमा खान, नरपत सिंह चौहान, मांगीलाल मेंशन, विक्रम सिंह, श्याम सिंह, पोकर राम, हेमेंद्र सिंह, नवीन जोलिया, प्रेम सिंह, सूर्यवीर सिंह, सुनीता कविराज, राज कुंवर, दिलीप मीणा, राजेश भाटी, मनोज कुमार, पंकी देवी, मदन पालीवाल, किशोर कुमार रावल, अशोल कुमार सहित अनेक जन प्रतिनिधि एवं प्रबुद्धजन उपस्थित रहे।

 

फोटो केप्शन

बाली के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के वार्षिकोत्सव में अतिथियों का स्वागत करते हुए।

 

बाली के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के वार्षिकोत्सव में संबोधित करते समाज सेवी नरेंद्र परमार

Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %