0 0
Read Time:4 Minute, 27 Second

पाकिस्तान में बलोच युवक की हत्या को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज होता जा रहा है। बलूच आंदोलन तेजी से फैल रहा है। युवक की हत्या से नाराज लोगों ने इस्लामाबाद को घेर लिया है। इस्लामाबाद समेत पूरा पाकिस्तान इसकी आंच में जल रहा है। बलोच सरकार ने विरोध प्रदर्शन में भाग ले रहे 44 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। वहीं राजधानी इस्लामाबाद में बंद का ऐलान किया गया है। बताया जा रहा है कि प्रदर्शनकारियों को प्रदर्शन स्थल पर बिस्तर तक नहीं ले जाने दिया जा रहा है।

पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के में कहा गया है कि इस इन कर्मचारियों को इस वजह से निलंबित किया गया है क्योंकि वे इस कथित हत्या के खिलाफ एक विरोध प्रदर्शन और रैली में भाग ले रहे थे। डॉन की रिपोर्ट में बताया गया है कि 2 जनवरी को पाकिस्तान के कार्यवाहक प्रधान मंत्री अनवारुल-हक-काकर ने प्रांत में हत्याओं के खिलाफ चल रहे बलूच विरोध को ‘गैर जिम्मेदाराना’ और ‘भड़काऊ’ करार दिया।

वहीं बताया जा रहा है कि निलंबित किए गए ज्यादातर कर्मचारी शिक्षा विभाग से संबंधित हैं और वे स्कूलों में पढ़ाते हैं। प्रदर्शनकारियों ने आज यानी 3 जनवरी को पूरे पाकिस्तान में बंद का आह्वान किया है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि राज्य के अधिकारियों का रवैया संतोषजनक नहीं है और उनकी उपेक्षा की जा रही है।

क्या है विरोध प्रदर्शन की वजह

इस विरोध प्रदर्शन की शुरुआत तब हुई जब आतंकवाद निरोधक विभाग (सीटीडी) की न्यायिक हिरासत में बालाच बलूच और अन्य तीन की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि यह मौत फर्जी मुठभेड़ में हुई। मृतकों के परिजन इसे हत्या बता रहे हैं। वे शव को शहीद फिदा चौक पर रखकर विरोध प्रदर्शन करने लगे। उनका कहना है कि हत्या के इस मामले को लेकर उनकी सुनवाई नहीं हो रही है और पुलिस मामले को नजरअंदाज कर रही है। बलूची लोग इसे लेकर एकजुट हो गए और विरोध प्रदर्शन का दायरा बढ़ता गया।

पुलिसकर्मी और प्रदर्शनकारियों में बहस

वहीं द बलूचिस्तान पोस्ट इंग्लिश ने अपने सोशल मीडिया हैंडल एक्स पर एक वीडियो पोस्ट करते हुए कहा है कि कल से पाकिस्तानी पीएम की गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियों के बाद, इस्लामाबाद पुलिस ने आज प्रदर्शनकारियों को लगातार परेशान किया है, उनकी राशन आपूर्ति भी रोक दी है। एक पुलिस अधिकारी ने भी बदसलूकी की और उन पर पब्लिसिटी के लिए विरोध करने का आरोप लगाया। वीडियो में पुलिसकर्मी और प्रदर्शनकारी बहस कर रहे हैं।

मानवाधिकार कार्यकर्ता ने क्या कहा

वहीं इस वीडियो को शेयर करती हुईं मानवधिकार कार्यकर्ता और VBMP5 की जनरल सेक्रेटरी सामी डीन बलोच (Sammi Deen Baloch) ने कहा कि, हम पिछले दस दिनों से नेशनल प्रेस क्लब इस्लामाबाद के सामने शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन में बैठे हैं। धरने में शामिल लोगों ने एक भी फूल या फूलदान नहीं तोड़ा है। जब हमें विभिन्न तरीकों से परेशान किया जा रहा है तब भी हम शांतिपूर्ण हैं और स्थानीय नागरिकों को प्रदर्शन करने से रोका जा रहा है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %